आहार श्रृंखला | Food Chain

आहार श्रृंखला

पारिस्थितिक तंत्र में जीव भोजन अथवा पोषी स्तरों द्वारा संबंधित होते हैं, यानी एक जीव दूसरे का भोजन बन जाता है। किसी पारिस्थितिक तंत्र में खाद्य ऊर्जा का एक पोषी स्तर से दूसरे स्तर पर खाने और खाए जाने की पुनरावर्ती प्रक्रिया द्वारा स्थानांतरण आहार श्रृंखला कहलाता है।
Food Chain
अतः आहार श्रृंखला को जीवों की कड़ियों के ऐसे रेखीय क्रम के रूप में परिभाषित किया जा सकता है जिसमें कोई जीव अगले जीव के लिए भोजन बन जाता है। चित्र में तीर उत्पादक से उपभोक्ता तक पोषकों और ऊर्जा की दिशा और गति को प्रदर्शित करते हैं। पोषी स्तरों के समान और उसी कारण से आहार श्रृंखला में भी चार या पांच तक ही कड़ियां या चरण होते हैं।

आहार श्रृंखला के प्रकार

प्रकृति में तीन मुख्य प्रकार की आहार श्रृंखलाएं विभेदित की गई है।

चराई आहार-श्रृंखला (Grazing food chain)

इस प्रकार की आहार श्रृंखला में प्राथमिक उपभोक्ता शाकभक्षी होते हैं जो पादप अथवा पादप भागों का उपभोग अपने भोजन के रूप में करते हैं। यह आहार श्रृंखला हरे पादपों से आरंभ होती है। इस प्रकार की आहार श्रृंखला का उदाहरण नीचे दिया गया है।
Food Chain
ग्रासहॉपर घास खाता है, मेंढ़क ग्रासहॉपर को खाता है, सर्प मेंढ़क को खाता है और चील सर्प को खाता है।

अपरद डेट्रिटस/आहार –श्रृंखला (Detritus food chain)

इस प्रकार की आहार श्रृंखला जंतु और पादप कायाओं के मृत कार्बनिक के अपक्षयी और उपापचयी अपशिष्ट पदार्थों जिसे डेट्रीटस (अपरद) कहते है से आरंभ होती है। उसके बाद अपरद खाने वाले जीवों तक जाती है जिन्हें अपरदभोजी (Detritus) अथवा अपघटक कहते हैं और फिर उनके बाद शाकभक्षी और अन्य परभक्षियों तक जाती है। अपरद (डेट्रीटस) में निहित ऊर्जा आहार श्रृंखला में ऊर्जा के स्त्रोत की भांति कार्य करती है। इस प्रकार की आहार श्रृंखला का उदाहरण नीचे दिया गया है।
लिटर (खाद) → स्प्रिंगटेल (कीट) → छोटे मकड़े (मांसभक्षी)।

डेट्रीटस/ अपरद आहार श्रृंखला
वह जो मृत कार्बनिक पदार्थ से सूक्ष्मजीवों और फिर अपरद/डेट्रीटस खाने वाले जीवों तक जाती है।
Food Chain

परजीवी आहार-श्रृंखला (Parasitic food chain)

इस प्रकार की आहार-श्रृंखला हरे पादपों से आरंभ होकर परजीवियों अथवा शाकभक्षियों तक जाती है जिनको परजीवी जीव खाते हैं। इस परजीवी आहार-श्रृंखला का अंत परजीवी जीवों पर होता है जो परभक्षियों के विपरीत परपोषी को मारते नहीं हैं। ऐसी आहार-श्रृंखला का उदाहरण नीचे दिया गया हैं।
Food Chain
प्रकृति में आहार-श्रृंखलाएं विभिन्न बिंदुओं पर परस्पर जुड़ी रहती है और एक आहार जाल (Foodweb) का रूप ले लेती हैं।

Post a Comment

Post a Comment (0)

Previous Post Next Post